• अंतिम अपडेट:Wednesday 19 July 2017, 11:35:37 IST

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 
मधु शाह आरम्भ में महारानी सांभावीजा के किरदार में

मुंबई, 12 जुलाई 2017 (ऑनलाइन न्यूज़ इंडिया हिंदी): ‘आरम्भ‘ एक बेहतरीन ड्रामा है, जिसे ‘बाहुबली‘, ‘बजरंगी भाईजान‘ और ‘बाहुबली 2‘ जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्मों के लेखक के.वी. विजयेन्द्र ने लिखा है। इस शो की कहानी दो सभ्यताओं के बीच होने वाले टकराव को बयां करती हैं, जिसकी शुरूआत अस्तित्व से संबंधित दो अलग-अलग जरूरतों के कारण होती है; इसमें से एक सभ्यता उस चीज को पाना चाहती है जो दूसरे के पास है तो वहीं दूसरी सभ्यता अपनी धरोहर को बचाने के लिए युद्ध करती है।

दर्शकों ने देवसेना (कार्तिका नायर) जिसने मातृसत्तात्मक समाज में जन्म लिया और जो एक प्रत्यक्ष उत्तराधिकारी एवं बेमिसाल योद्धा है, अपने कुल को पितृसत्तात्मक सभ्यता से बचाते हुये देखा है। यह पितृसत्तात्मक सभ्यता सप्त सिंधु की तलाश में हैं और इसे पाने में वे कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते। युद्धस्थल पर देवसेना का सामना उनके एक प्रशंसनीय योद्धा वरुणदेव (रजनीश दुग्गल) से होता है। वरुणदेव ने अपनी सहनशीलता से प्रजातांत्रिक समाज में अपना रुतबा कायम किया है। उनकी लड़ाई एक नई कहानी का खुलासा करेगा और इसमें कई नये किरदारों का मार्ग प्रशस्त होगा।

इन दोनों सभ्यताओं के बीच एक विभाजित संसार में, 200 सालों बाद दर्शकों को एक अत्यंत ताकतवर और दूरदर्शी महारानी सांभावीजा को देखने का अवसर मिलेगा। सांभावीजा का किरदार मधु शाह ने निभाया है। सांभावीजा एक निष्ठुर योद्धा है, जिसकी चतुर बुद्धि एवं तरकीबों ने इस मातृसत्तात्मक समाज को एकजुट करने में मदद की है, जोकि देवसेना एवं वरुणदेव के युद्ध के बाद तहस-नहस हो गई थी। भले ही सभ्यता को एकजुट करने की उसकी महत्वाकांक्षा एक नेक इरादे को दर्शाती है, लेकिन इसे काफी रक्तपात के साथ हासिल किया गया था और इस दौरान कुल के अंदर एवं बाहर उसने अपने कई दुश्मन भी बना लिये। उसने अपना अधिकांश यौवन इन युद्ध में ही बिता दिया।

सांभावीजा अपराजेय है और वह महिलाओं की ताकत में यकीन करती है। वह बहुत ही सशक्त है जिसके कारण उसने अपने कई दुश्मन बना लिये है जो उसके खिलाफ षड़यंत्र रचते रहते हैं। उसे पुरूषों से लड़ते हुये और अपने दम पर हमलावरों से खुद को बचाते हुये दिखाया गया है। तब भी जब वह गर्भवती होती है।

इस वीकेंड फैमिली शो में दर्शक मधु शाह को पहली बार टेलीविजन शो में देखेंगे। इससे पहले उन्हें ‘रोजा‘, ‘दिलजले‘ आदि कई बॉलीवुड ब्लॉकबस्टर्स में दर्शक देख चुके हैं। इस शो में वह अपने दर्शकों एवं प्रशंसकों के सामने एकदम नये अवतार में नजर आयेंगी। उन्होंने अपनी भूमिका के बारे में कहा, "मैं टेलीविजन की दुनिया में कदम रखने के लिए बहुत उत्साहित हूं। श्री प्रसाद द्वारा रचित भूमिका को निभाना सम्मान की बात है और मैं अपने दर्शकों की प्रतिक्रिया देखने का बेसब्री से इंतजार कर रही हूं।"

‘आरम्भ‘ में मानवीय भावनाओं के सभी पहलुओं को दिखाया गया है। इसमें प्यार, ईर्ष्या, गर्व, घृणा, लालच आदि जैसे सभी रंग देखने को मिल रहे हैं। इसलिए यह शो दर्शकों को उनके टेलीविजन सेट से बांधकर रखने तथा और देखने की चाहत पैदा करने के लिए तैयार है।

Other articles in स्टार प्लस

मुझे लैला के रोल के लिए ऑडीशन देना पड़ा - निकी वालिया 19 Jul 2017

सृष्टि जैन ने असली जिंदगी के सब्जी विक्रेताओं के साथ समय बिताया 11 Jul 2017

‘इश्कबाज़’ का प्रसारण अब एक घंटे होगा 07 Jul 2017

लोग पर्दे पर ‘बेचारी‘ लड़कियों को देखना पसंद करते हैं - शिवानी तोमर 23 Jun 2017

बहुत जल्द ही बच्चे के लिए प्लान करेंगे - बरुण सोबती 21 Jun 2017

- Entire Category -